कन्या लग्न की कुंडली,कन्या लग्न के जातक और कन्या लग्न विश्लेषण

Spread the love

कन्या लग्न का परिचय


कन्या लग्न में जन्म लेने वाला जातक आमतौर पर स्त्री के रूप में होता है। महिला कोमलता उनमें आसानी से पाई जाती है। रचनात्मक कार्यों में उनकी एक विशेष प्रवृत्ति होती है। ऊँचाई मध्यम होती है। रंग गोरा होता है। नुकीली नाक नक्शा, सुंदर बनावट, उन्नत ललाट, तीखी लंबी और काली आँखें, तीक्ष्ण उभरी हुई नाक, पतले होंठ और उभरी हुई ठुड्डी उनके व्यक्तित्व में देखी जा सकती है।

ऐसे व्यक्ति हंसमुख, चतुर और सफल मित्र साबित होते हैं। ऐसे लोग भावुक होते हैं। वे कठोर और भीषण कार्यों में पूरी तरह से असफल होते हैं। वह लड़ाई,वाद विवादों आदि से घृणा करते है। ऐसे व्यक्ति सफल मनोवैज्ञानिक हो सकते हैं। उनके पास इंसान को परखने और कुछ ही पलों में उसको अंदर तक पहचानने की जबरदस्त ताकत होती है। वे अपने सिद्धांतों को सर्वोपरि मानते हैं और इन सिद्धांतों के आधार पर वे दूसरों को देखने की कोशिश करते हैं। उन्हें न्याय- पर गहरा विश्वास होता है। वे शांति अभियानों में सफल रहते हैं। ऐसे व्यक्ति डॉक्टरों, नर्सों, निर्णय लेने के कार्यों आदि में सफलता प्राप्त करते हैं।

ऐसे व्यक्ति कल्पनाशील होते हैं और कल्पना की दुनिया में रहते हैं। जीवन की कठोर परिस्थितियों में,वे तुरंत घबरा जाते हैं, और लाखों लोगों की कल्पना में हवाई किले बनाना उनकी प्रकृति का हिस्सा बन जाता है। वास्तविकता में कल्पना से अधिक जीते हैं। अधिकतर वे अपने आप में मस्त रहते हैं। दूसरों की बात की परवाह नहीं करते कि वे उनके बारे में क्या सोचते हैं, वे क्या कहते हैं, या वे उनके बारे में क्या धारणा रखते हैं, वे वही करते हैं जो उन्हें पसंद है। यदि ऐसे व्यक्ति राजनीति के क्षेत्र में हैं तो वे सफल हैं। उनके लिए जनता पर अपने विचारों को मुक्त करना, या उनके पक्ष में भीड़ प्राप्त करना, या भाषण के माध्यम से जनता को अनुकूल बनाना उन्हें बखूबी आता है। उनकी बोलने की शक्ति बहुत प्रबल होती है।

वे प्यार के क्षेत्र में बहुत भावुक होते हैं और विपरीत लिंग को अपना सभी कुछ देने में संकोच नहीं करते। दोस्ती के नाम पर वे सबसे बड़ा त्याग करने को तैयार रहते हैं। इस प्रकार का व्यक्ति एक सफल प्रेमी, एक सफल दार्शनिक और एक सफल दोस्त साबित हो सकता है। सत्य उनके जीवन का सहारा है। मारपीट का काम उनके नियंत्रण में नहीं है। अच्छे प्रचारक भी हो सकते हैं। ईमानदारी भी उनके जीवन का उद्देश्य है। ऐसे लोगों की बात से कोई निष्कर्ष निकालना आसान नहीं है क्योंकि ऐसे लोग बहुत बुद्धिमान होते है। सीखने की ओर एक विशेष रुझान रहता है। महिलाओं जैसे कोमलता, शर्म, भावुकता और ममता जैसे गुण पाए जाते हैं।

कन्या लग्न में ग्रहों का महत्व

  • आपकी कुंडली में सूर्य नेत्र का स्वामी है, बाहरी स्थान और खर्चों से संबंधित है। यदि आपकी कुंडली में सूर्य अशुभ स्थिति में है, तो यह राज्य को लाभ, स्वास्थ्य और महिमा देगा।
  • चंद्रमा आपकी कुंडली में बड़ा भाई और आय का स्वामी है। आपकी कुंडली में चंद्रमा आम कारक है।
  • मंगल आपकी कुंडली में छोटा भाई है, पराक्रम और आयु का स्वामी है। आपकी कुंडली में मंगल एक अस्तित्वहीन ग्रह है। कमजोर मंगल भी आयु में कमी करता है।
  • बुद्ध आपकी कुंडली में शारीरिक स्वास्थ्य-सौंदर्य, आयु, पिता, राज्य और रोजगार के स्वामी हैं। आपकी कुंडली में बुध कारक ग्रह है।
  • गुरु आपकी कुंडली में माता, भूमि, भवन, गृहस्थ सुख, पत्नी और दैनिक व्यवसाय का स्वामी है। गुरु को केंद्राधिपति दोष लगता है।
  • आपकी कुंडली में धन, परिवार, भाग्य, धर्म और उच्च शिक्षा का स्वामी शुक्र है। आपकी कुंडली में शुक्र कारक ग्रह है।
  • शनि आपकी कुंडली में ज्ञान, बुद्धि, संतान, रोग और शत्रुओं का स्वामी है। आपकी कुंडली में शनि सामान्य अकारक ग्रह है।

Leave a Reply

You cannot copy content of this page